gujre lamho se milte hai to hasi aati hai..

gujre lamho se milte hai to hasi aati hai.. 3.27/5 (65.38%) 52 votes

कितनी बेवकूफियां की इसका अहसास अब होता है
गुजरे लम्हों से मिलते है तो हसी आती है

हमने न चाह था के ज़िन्दगी हो कुछ ऐसी
एक गम से निकलते है तो दूजी चली आती है

kitni bewakufiyan ki iska ahsaas ab hota hai
gujre lamho se milte hai to hasi aati hai..

humne na chaha tha ke zindagi ho kuch aysi
ek gam se nikalte hai to duji chali aati hai..

Kabhi tanhayi, kabhi tadap, kabhi bebasi to kabhi intazaar..

Kabhi tanhayi, kabhi tadap, kabhi bebasi to kabhi intazaar.. 3.22/5 (64.41%) 59 votes

कभी तन्हाई, कभी तड़प, कभी बेबसी तो कभी इंतज़ार
ये मर्ज़ भी क्या चीज है जिसे इश्क कहते है

Kabhi tanhayi, kabhi tadap, kabhi bebasi to kabhi intazaar..
Ye marz bhi kya khoob hai jise ishq kahte hai..!

Suna Hai…

Suna Hai… 3.45/5 (69.00%) 60 votes

सुना है उन्हें अब मेरा चेहरा भी याद नहीं…
हम तो उनकी यादों के गोद में आज भी सर रख के सोते है

Suna hai unhe ab mera chehra bhi yaad nahi..
Hum to unki yaadon ke god me, aaj bhi sir rakh ke sote hai..!