September 29, 2017

अंजुम है अब्र भी है शम्स ओ क़मर भी है,
उस नीले आसमान में इक मेरा घर भी है।

© सन्तोष पुरस्वानी सन्त
29-9-2017

anjum hai abr bhi hai shams o qamar bhi hai,
us neele aasmaan mei'n ik mera ghar bhi hai.

© Santosh Purswani Sant
29-9-2017

You Might Also Like

0 comments